IP Full Form In Hindi

नमस्कार दोस्तों क्या आप IP Address के बारे में जानने आये है जैसे Ip का full form क्या होता है, Ip address किसे कहते है और Ip कितने प्रकार के होते है what is full form of IP in Hindi. आईपी का full फॉर्म क्या होता है IP किसे कहते है इन सब सवालो के जबाब आज हम आपको इस पोस्ट के माद्यम से देगे और आशा करेगे की आपको हम IP के बारे के हर एक जानकारी दे पाए.

Full Form Of IP 

दोस्तों IP एक कंप्यूटर शब्द है जिसका Full Form Internet Protocol होता है और तो और हम इसे हिंदी में भी इन्टरनेट प्रोटोकॉल कहते है. इस इन्टरनेट की दुनिया में इस IP का महत्पूर्ण भूमिका है. IP के जरिये हम किसी भी कंप्यूटर यह मोबाइल जिसपर इन्टरनेट चलाया जा रहा है. उसको हम एक UNIQUE ID देते है और इसी के जरिये व कंप्यूटर या मोबाइल Information और Data को share कर पता है

IP का यूज़ कर के हम किसी भी कंप्यूटर यह मोबाइल फ़ोन को बढ़ी आसानी से TRACE कर पते है और सारी INFORMATION का हम पता लगा सकते है. दोस्तों मान लिजेये की अपने इन्टरनेट पर कुछ search किया तो इसी  IP Address से आपके Internet provider  को पता चलता है की उसे Data कहाँ भेजना है और फिर वह सारा डाटा को collect कर उसी protocol address  (IP) पर भेज देता है जहाँ से उसे COMMAND दी गयी हो.

IP के Format 

दोस्तों आज की इन्टरनेट दुनिया में IP दो Format की होती है जिसे हम IPv4  और दूसरी IPv6 कहते है. IPv4 और IPv6 को बिस्तार से समझने के लिए आपको इनकी History पता होनी चाहिए.

जब इन्टरनेट का जोर था तब सबसे पहेले IPV6 आया जिसमे हमें हर कंप्यूटर या मोबाइल फ़ोन जो भी इन्टरनेट को यूज़ करता है उसे हमें एक यूनिक ID देनी पड़ी. और IPV4 एक 32 बिट की binary digit के बना होता था  जो कुछ इस प्रकार का था 125.524.542.652. लेकिन इसकी कुछ खामिया थी व या थी की इसकी लिमिट  4294967296 तक थी मतलब हम सिर्फ  4294967296 कंप्यूटर यह मोबाइल फ़ोन को ही दे पायेगे.

इसलिए एक नए IP का अविष्कार हुवा जो आज की MODERN IP है IPV6 इस IP की कोई लिमिट नही है हम चाहे तो इसे Unlimited computer , मोबाइल फ़ोन और राऊटर को एक यूनिक ID दे सकते है और यह IP बहुत ही ज्यादा SECURITY PROVIDE करता है आज हर कोई इसी IP का यूज़ करता है.

IP के प्रकार 

IP दो प्रकार की होती है 

  1. STATIC IP
  2. DYNAMIC IP

STATIC IP : वो Address जो कभी बदलते नहीं हैं और  हमेसा constant  रहते हैं उसे हम static IP address कहते है. यह address manually assigned किया जाता है और इस static Ip को हम permanent Ip भी बोलते है.

Dynamic IP : इन address को Dynamic IP address इसलिए कहा जाता है, क्यूंकि यह address समय – समय  पर बदलते रहते हैं, इन्हे temporary IP address भी कहते है जब भी कोई computer या device इंटरनेट से access करता है तब उसे हमेसा एक नया IP address मिलता  है, उसे हम dynamic IP address कहा जाता है.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here